अवार्ड लेकर लौटने पर होगा विधायक सुराना का भव्य स्वागत

335
लूणकरनसर विधायक मानिकचंद सुराना को सम्मानित करतीं मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे।
लूणकरनसर विधायक मानिकचंद सुराना को सम्मानित करतीं मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे।

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। पूर्व वित्त मंत्री एवं लूणकरनसर विधायक मानिक चंद सुराना को सर्वश्रेष्ठ विधायक पुरस्कार वर्ष 2014 से मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे द्वारा सम्मानित किए जाने पर उनके समर्थकों में उत्साह का संचार हुआ है। समर्थकों ने बुधवार को मिठाइयां बांटकर प्रसन्नता जताई। आगामी 11 मार्च को उनका बीकानेर आगमन पर जयपुर रोड पर भव्य स्वागत किया जाएगा। समर्थकों ने इसकी तैयारियां शुरू कर दी है।

युवा भाजपा नेता विनोद व्यास ने कहा कि विधायक सुराना को सर्वश्रेष्ठ विधायक का पुरस्कार मिलना पूरे बीकानेर जिले के लिए गौरव का क्षण हैं। गिरिराज हर्ष ने कहा कि सुराना के सम्मानित होने की तारीख 6 मार्च 2018 बीकानेर की राजनीति में स्वर्णिम अक्षरों में लिखी जाएगी। सुराना ने यह मुकाम सतत् जनसेवा तथा लंबे अनुभव से हासिल किया हैं। मास्टर गु्रप (मनु एक्सप्रेस) के सदस्यों ने एक-दूसरे को बधाई देते हुए मिठाइयां बांटी। इस अवसर पर बंशीलाल व्यास, राजकुमार जोशी (मास्टर), रोचक गुप्ता, चाणक्य हर्ष, धुर्वेन्द गहलोत, मन्नु नाई, महेश तंवर, बद्रीनारायण ओझा, बबली पांडिया, मूल चंद पारीक, अयूब खान, अशोक मारु, श्याम कुलरिया, घनश्याम पारीक, गोपाल नाई, जयनारायण नाई, रामनिवास हर्ष, विजय नागल, पुनीत मेघवाल उपस्थित थे। युवा नेता विनोद व्यास ने बताया कि आगामी 11 मार्च को विधायक सुराना के अवार्ड मिलने के बाद प्रथम बार बीकानेर आगमन पर जयपुर रोड पर भव्य स्वागत किया जाएगा।

सबसे अच्छी पाठशाला है विधानसभा : सीएम
मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि विधायकों के लिए विधानसभा ही सबसे अच्छी पाठशाला है जहां हम विधायी कार्यों से लेकर सभी तरह के नियम और प्रतिक्रियाओं को सीखते हैं। उन्होंने कहा कि जनता एक विधायक को अपने प्रतिनिधि के रूप में चुनकर भेजती है, ऐसे में विधायकों को जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरना चाहिए। राजे ने यह विचार मंगलवार को विधानसभा में सर्वश्रेष्ठ विधायक सम्मान समारोह को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए थे। सम्मानित होने वाले विधायकों को बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि जिस प्रकार इन विधायकों ने संसदीय परम्पराओं का निर्वहन किया है, वह सभी के लिए प्रेरणादायी है।

समारोह मे शांतिलाल चपलोत को वर्ष 2003-04 के लिए, भरत सिंह को 2007, राजेन्द्र राठौड़ को 2009, गुलाबचंद कटारिया को 2010, अमराराम को 2011, सूर्यकांता व्यास को 2012, राव राजेन्द्र सिंह को 2013, माणिकचंद सुराणा को 2014, जोगाराम पटेल को 2015, गोविंद सिंह डोटासरा को 2016, बृजेन्द्र सिंह ओला को 2017 तथा अभिषेक मटोरिया को वर्ष 2018 के लिए सर्वश्रेष्ठ विधायक के रूप में सम्मानित किया।