हुर्रे…….हम पास हो गए, अब बारी समर वेकेशन की

बीकानेर के एक निजी स्कूल में परीक्षा परिणाम पाकर खुशी मनाते विद्यार्थी।
बीकानेर के एक निजी स्कूल में परीक्षा परिणाम पाकर खुशी मनाते विद्यार्थी।

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। स्कूली परीक्षाएं खत्म होने के बाद अब परिणाम आने चालू हो गए हैं। छोटे-छोटे बच्चों के चेहरों पर पास होने की खुशी साफ देखी जा सकती है। गुरुवार को शहरी क्षेत्र के एक स्कूल में माक्र्सशीट्स पाकर बच्चे खुद को रोक नहीं पाए और झूमने लगे। यह खुशी जायज भी थी, क्योंकि पूरे साल की मेहनत का परिणाम उनके हाथों में था। अच्छे अंक पाने वाले बच्चों के परिजनों के चेहरे पर गर्व था, तो उन्हें पढ़ाने वाले गुरुजन भी संतुष्ट दिखे।

एक बच्चे का परीक्षा परिणाम लेने आए अभिभावक नवरतन रंगा ने बच्चों के अच्छे अंक लाने पर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि स्कूली जीवन, बच्चों के भविष्य की नींव है। इस दौर में किताबी ज्ञान के साथ-साथ संस्कारों की शिक्षा भी दी जानी चाहिए। अमीषी का परीक्षा परिणाम लेने आई गंगा आचार्य ने कहा कि स्कूलों द्वारा बच्चों में सकारात्मक प्रतिस्पर्धा की भावना पैदा करनी चाहिए, जिससे उनमें जीवन की कठिनाईयों का सामना करने का हौंसला पैदा हो सके। पहली कक्षा पास करने वाले काव्यराज जोशी की माता रेणू जोशी ने कहा कि परीक्षा परिणाम आने के बाद अब समर वेकेशन पर जाने की योजना बनाएंगे, जिससे बच्चे मानसिक रूप से तरोताजा हो सकें।

एक निजी स्कूल की शिक्षिका विजय लक्ष्मी व्यास ने कहा कि बच्चों को अच्छी शिक्षा एवं संस्कार देकर उनका भविष्य निर्माण करना एक शिक्षक का प्रमुख दायित्व है। शिक्षकों को डॉ. राधाकृष्णन एवं डॉ. अब्दुल कलाम जैसे महापुरूषों को आदर्श मानकर अपने कत्र्तव्य का पालन करना चाहिए।