चुनावी बयार : सट्टा बाजार में आई गर्मी, जानिए ताजा अपडेट

मुकेश पूनिया/बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। प्रदेश के विधानसभा चुनावों की सरगर्मियों के बीच चुनावी सट्टा बाजार में भी गर्मी आ गई है। चुनावों को लेकर सियासी उतार-चढ़ाव के ताजा दौर में अब तक सौ करोड़ रूपये से ज्यादा का सट्टा लग चुका है। प्रदेश की सत्ता के सिंहासन पर कौन बैठेगा? किस पार्टी के पास वह जादुई आंकड़ा होगा? इसे लेकर सट्टा बाजार की रिपोर्ट को मानें तो राजस्थान में कांग्रेस अभी भाजपा से कहीं आगे है, लेकिन कांग्रेस के भीतर चल रही कलह उसको भारी नुकसान पहुंचा सकती है।

सट्टा बाजार के आंकड़ों की मानें तो राजस्थान में फिलहाल कांग्रेस १२३-१२८ सीटों पर आगे चल रही है, जबकि भाजपा ५४-५७ सीटों पर अटकी हुई और यह स्थिति पिछले सप्ताह भर से कायम है। इसके अलावा भाजपा-कांग्रेस के दिग्गज प्रत्याशियों की टिकट के लिये दावेदारी पर खूब सौदे हो रहे हैं।

जानकारी में रहे कि बीकानेर का सट्टा बाजार जो अपने सटीक आंकलन के लिए देशभर में जाना जाता है। सट्टा बाजार ने पखवाड़ेभर पहले ही प्रदेश की दोनों प्रमुख पार्टियों के भाव जारी कर दिए है। हालांकि इस आंकलन को देख कर कांग्रेस भले ही ऊपरी तौर पर खुशी जाहिर नहीं करें, लेकिन भीतरी तौर पर कांग्रेस नेताओं में कमाल की स्फूर्ति जाग गई है। वहीं भाजपाई खेमे में मायूसी साफतौर पर झलक रही है।

इसे लेकर भाजपा के एक दिग्गज नेता का कहना है कि अभी खेल शुरु हुआ है। आप देखिए, आने वाले दिनों में कैसे पूरी तस्वीर बदलती है। अभी सट्टा बाजार केवल कांग्रेस और भाजपा की सीटों को लेकर ही अपना आंकलन रख रहा है, लेकिन आने वाले दिनों में विधानसभा वार क्या गणित रहने वाला है, उस पर भी सट्टा लगेगा। इसके अलावा किस लीडर की लीडरशिप में कौन सी पार्टी कितनी सीटें हासिल कर सकती है और मुख्यमंत्री पद का सबसे मजबूत दावेदार कौन होगा? इस बात को लेकर भी बड़े पैमाने पर सट्टा लगेगा। सट्टा बाजार के जानकार मान रहे हैं कि इस बार राजस्थान विधानसभा के चुनाव पर 1000 करोड़ से ज्यादा का सट्टा लगने का अनुमान है।

कांग्रेस : 60 सीटों पर होमवर्क पूरा, पहली सूची 25 तक

अजब-गजब संयोग : …तो क्या नेता प्रतिपक्ष डूडी नहीं बन पाएंगे सीएम?

हारे हुए नेताओं को लेकर दुविधा, 105 को दिए थे टिकट, 14 ही जीते

चुनावी खबर : बीकानेर पूर्व विधानसभा क्षेत्र में पड़े सर्वाधिक फर्जी वोट, कोलायत में आंकड़ा जीरो

बीकानेर पश्चिम विस सीट : 3 बार हारे डॉ. कल्ला कांग्रेस की ताकत या मजबूरी?