बर्थडे स्पेशल : 19 के मनोज कुमार ने निभाई थी 90 साल के बुजुर्ग की भूमिका

Manoj Kumar
Manoj Kumar

मुंबई। सिने अभिनेता मनोज कुमार ने युवावस्था में ही अपने अभिनय का लोहा मनवा लिया है। जब वे महज 19 साल के थे, तब उन्होंने एक फिल्म में 90 साल के बुजुर्ग भिखारी का किरदार निभाकर सभी को चौंका दिया था। एक्टर मनोज कुमार आज (24 जुलाई) को अपना 80वां जन्मदिन मना रहे हैं। मनोज कुमार ने लेखराज भाकरी निर्देशित फिल्म ‘फैशनÓ (1957) में बुज़ुर्ग की भूमिका से अपना फिल्मी सफर शुरू किया था।

इस फिल्म में प्रदीप कुमार, माला सिन्हा की मुख्य भूमिका थी और मनोज कुमार भिखारी बने थे। मनोज कुमार देशभक्ति की फिल्मों के लिए मशहूर एक्टर माने जाते थे, इसलिए उनका नाम भारत कुमार पड़ गया। भिखारी के रोल में देख कर उनके घर वाले और दोस्त भी मनोज कुमार को नहीं पहचान पाए थे। एक साक्षात्कार के दौरान मनोज कुमार ने बताया था कि उनकी पत्नी शशि जिस समय वे मिले नहीं थे ये फिल्म अपनी सहेलियों के साथ देखने गईं थी। उन्हें भी बहुत समय बाद पता चला कि मनोज की यह पहली फिल्म थी।

उस दौर में लेखराज भाकरी इंडस्ट्री का एक जाना-माना नाम थे। लेखराज मनोज के कजिन थे। कई साल बाद जब लेखराज ने मनोज को मिलने बुलाया तब वे उसे देखते ही बोले- तू तो हीरो लगता है। तो मनोज तुरंत लेखराज से बोल उठे- तो आप बना दीजिये। इसके बाद लेखराज ने 1956 में मनोज के पिताजी को चि_ी लिख उन्हें मुंबई बुलवा लिया।

फिल्मों को लेकर उनकी दीवानगी का अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि दिलीप कुमार की फिल्म ‘शबनम’ में उनके किरदार के नाम पर ही अपना नाम हरिकृष्ण गिरी गोस्वामी से बदल कर मनोज कुमार रख लिया।

मनोज कुमार से जुड़ी रोचक बातें :-

-मनोज कुमार का जन्म पाकिस्तान के एक शहर एबटाबाद में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। एबटाबाद विभाजन पूर्व भारत का एक हिस्सा था।

-जब वह 10 साल के थे, तो उनके परिवार को विभाजन के कारण विजय नगर, किंग्सवे कैंप में शरणार्थियों के रूप में रहना पड़ा। बाद में नई दिल्ली के पुराने राजेंद्र नगर इलाके में चले गए।

-वर्ष 1965 की फिल्म शहीद के बाद मनोज कुमार की छवि एक देशभक्त के रूप में स्थापित हो गई। यह फिल्म स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह के जीवन पर आधारित थी।

-वर्ष 1965 में भारत-पाक युद्ध के बाद, भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री ने उन्हें एक लोकप्रिय नारा ‘जय जवान जय किसान’ के आधार पर एक फिल्म बनाने के लिए कहा। इसके बाद उन्होंने वर्ष 1967 में ‘उपकार’ फिल्म को निर्देशित किया, जिसमें उन्होंने एक सैनिक और एक किसान की भूमिका निभाई थी।

-मनोज कुमार को फिल्म ‘उपकार’ के लिए सर्वश्रेष्ठ निर्देशक फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

-1981 में मनोज कुमार ने फिल्म ‘क्रांति’ का निर्देशन किया, जो सुपर हिट रही।