उम्र 84 साल, 15 को हाथकाम, 16 को मेहंदी और 17 को निकलेगी बारात

1235
chetan gahlot and kamla devi
chetan gahlot and kamla devi

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। चेतन गहलोत (84) की शादी आठ वर्ष की उम्र में हो गई थी, उस समय कुछ समझते ही नहीं थे इसलिए अब शादी की 75वीं सालगिरह पर फिर शादी कर रहे हैं। शादी से पहले हाथकाम, मेहंदी रात की रस्में होंगी और फिर बारात निकलेगी।

wedding card
wedding card

शादी की पचासवीं सालगिरह पर तो अक्सर लोग ऐसा आयोजन कर लेते हैं, लेकिन 75वीं सालगिरह पर दुबारा शादी करने का आयोजन बीकानेर ही नहीं राजस्थान में पहली बार हो रहा है। इसमें बाकायदा 83 साल की दुल्हन के मेहंदी की रस्म, हाथकाम और गीत संगीत के आयोजन होंगे। बारात के लिए बाकायदा भवन बुक कराया गया है जहां के लिए 17 मई को बारात पहुंचेगी। गहलोत के सगे-समधियों और दोस्तों ने भी इस खुशी में शामिल होने के लिए बारात का अपने घरों के आगे से निकलने पर स्वागत करने का कार्यक्रम बनाया है।

कार्यक्रम के अनुसार 15 मई को हाथकाम, 16 को मेहंदी रात और 17 को बारात व प्रीतिभोज का कार्यक्रम रखा गया है। शादी के दिन दुल्हन कमला देवी के साथ चेतन गहलोत रथ पर सवार होकर शादी समारोह स्थल पहुंचेंगे और सात फेरे लेंगे। इसमें उनके पोते पोतियों के साथ पड़पोते भी नाचेंगे।

चेतन गहलोत ने बताया कि मेरा बाल विवाह हुआ था। मैं आठ साल का था और कमला देवी सात साल की था जब घरवालों ने हमारी शादी कर दी थी। उस समय कुछ समझते ही नहीं थे। अब तो मेरे पोतों की शादी हो चुकी है। हमारे तीन पोते और छह पोतियां हैं जो सभी शादीशुदा हैं और पड़पोते हो गए हैं। शादी की याद फिर ताजा करने के लिए दुबारा शादी करेंगे। पहले तो पत्नी तैयार नहीं हुई, लेकिन पोते-पोतियों की जिद पर वह मान गई है।

83 वर्षीय दुल्हन कमला देवी ने कहा कि हमें तो हमारी शादी याद भी नहीं है इसलिए पोते-पोतियों की जिद पर शादी की सालगिरह को शादी महोत्सव के रूप में मना रहे हैं। मुझे तो शर्म आती है, कैसे शादी के रथ पर बैठूंगी, कैसे दुल्हन बनूंगी, लेकिन बच्चों के आगे झुकना पड़ रहा है।

जनसंपर्क विभाग में ड्राइवर की नौकरी कर 24 साल पहले सेवानिवृत्त होने वाले चेतन गहलोत ने बाकायदा शादी के कार्ड छपवाए हैं और जिसकों भी बांट रहे हैं वह भी आश्चर्य व्यक्त कर रहा है।