46 लाख रुपए की नकबजनी की वारदात का राजफाश

बीकानेर (अभय इंडिया न्यूज)। बीकानेर पुलिस को पौने दो महीने पूर्व नोखा तहसील के पांचू थाना के तहत धरनोक गांव में हुई 46 लाख रुपये की नकबजनी का मामला खोलने में बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने आरोपी उसी गांव के कैलाश विश्नोई पुत्र गंगाराम को गिरफ्तार कर उसके पास से 42 लाख रुपए बरामद भी कर लिए हैं।

पुलिस अधीक्षक सवाई सिंह गोदारा ने बताया कि गुजरात के ऊंझा शहर में ट्रांसपोर्ट का कारोबार करने वाले धरनोक निवासी अमरचंद विश्नोई पुत्र बुधाराम कृषि भूमि खरीदने के लिए 13 जून को धरनोक आए थे। सांईसर रोड पर 18 बीघा कृषि भूमि का सौदा तय होने पर उन्होंने 14 जून को रमेश चौधरी को एडवांस के तौर पर 40 लाख रुपए का भुगतान कर दिया। बाकी बचे 46 लाख रुपए उन्होंने अपने रिहायशी मकान में एक कमरे में रख दिए थे। उन्हें भरोसा था कि गांव में कौन घर में घुसकर रुपये चुराएगा, लेकिन उनका यह भरोसा 16 जून को टूट गया।

अमरचंद ने बताया कि 14 जून के बाद मैंने 17 जून को रुपये संभाले तो 46 लाख रुपये भरा बैग गायब था। इसके अलावा कमरे में रखे पर्स में से भी 8 हजार रुपये नहीं मिले। इस पर 18 जून को अमरचंद ने पांचू थाने में रिपोर्ट लिखाई तो पूरे पुलिस महकमे में खलबली मच गई।

पुलिस अधीक्षक ने उपनिरीक्षक नवनीत सिंह को मामले की जांच सौंपी। नवनीत सिंह ने बताया कि गांव में संदिग्ध लोगों पर नजर रखी जा रही थी। कुछ दिनों तक शांत रहने के बाद पुलिस की हलचल कम हुई तो धरनोक में ही रहने वाले कैलाश ने गुलछर्रे उड़ाने शुरू कर दिए। इससे लोगों को उस पर शक हुआ। पुलिस को भी मुखबिर से इस बारे में सूचना मिली तो उसे बुलाकर सख्ती से पूछताछ की तो उसने रुपये चुराना कबूल कर लिया। नवनीत सिंह ने सोमवार को उसे गिरफ्तार कर लिया। उसने घर में अपने कमरे के अंदर लकड़ी की पेटी में रुपयों का बैग छिपा कर रखा हुआ था। उसी में से रुपये निकाल कर खर्चे कर रहा था। पुलिस ने उसके कमरे से बैग बरामद कर लिया जिसमें 42 लाख रुपये मिल गए।

एसपी गोदारा ने बताया कि इस नकबजनी में उसके साथ और कौन शामिल था, इसकी भी तहकीकात की जा रही है। उन्होंने आशंका व्यक्त की कि अमरचंद के घर में जिस कमरे में रुपयों भरा बैग रखा हुआ थाए उसके बारे में सूचना किसी नजदीकी व्यक्ति ने ही दी होगी। यह पूछताछ के बाद ही सामने आएगा।

सीएम के मुद्दे पर बोले गहलोत, मौका लगते ही पूरी कर दूंगा सारी कसर